मुकेश अंबानी अपने घर में लगाएंगे 200 साल पुराने जैतून के पेड़, कुरान में भी है जिक्र

रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी ने अपने घर में 200 साल पुराने जैतून के पेड़ लगाएंगे। जैतून के पेड़ को बेहद ही लाभकारी माना जाता है। जैतून का जिक्र कुरान में भी आया है।

जानकारी के अनुसार, मुकेश अंबानी के जामनगर वाले बंगले में लगाए जाएँगे। सालों पुराने जैतून के पेड़ (ओलिया यूरोपिया) को लगभग तीन साल पहले स्पेन से मंगाकर आंध्रप्रदेश के गौतमी नर्सरी में लाकर विकसित किया जा रहा था। हालांकि बुधवार को इन पेड़ों को एक ट्रक के जरिये गुजरात भेज दिया गया।

 पांच दिन का सफर करने के बाद ये ट्रक जामनगर पहुंचेंगे। सूत्रों के अनुसार दोनों जैतून के पेड़ों पर अब तक लगभग 85 लाख रुपये का खर्च आ चुका हैं। गौतमी नर्सरी के मालिक ने कहा कि पेड़ पुराने हैं और बड़े पॉलीथिन बैग में रखे गए हैं। इसे ले जाते समय ट्रक की अधिकतम स्पीड 30 किमी से अधिक नहीं होनी चाहिए। अनुमान है कि पेड़ 29 नवंबर तक जामनगर पहुंच जाएंगे।

गौतमी नर्सरी के मालिक मार्गनी वीरबाबू ने कहा कि उन्हें लगभग एक सप्ताह पहले ऑर्डर मिला था। “यह एक वास्तुकार था जिसने हमें अंबानी के पास भेजा था। रिलायंस के कर्मचारियों ने पिछले हफ्ते ऑर्डर दिया था। उन्होंने लगातार पीछा किया और हमें बताया कि वे पेड़ों को प्राथमिकता पर चाहते हैं। हमें बताया गया था कि अंबानी के बेटे ने अपने नए बंगले को सजाने के लिए जैतून के पेड़ों को चुना।”

वीरबाबू कहते हैं, “अंबानी एक चिड़ियाघर विकसित कर रहे हैं और एक पूरा पारिस्थितिकी तंत्र बनाया जा रहा है। वे अपने संग्रह में जोड़ने के लिए कई प्रजातियों के दुर्लभ पेड़ों को इकट्ठा कर रहे हैं।” वीरबाबू कहते हैं, “जैतून के पेड़ों को पवित्र माना जाता है और वे बहुत लंबे समय तक जीवित रहते हैं। माना जाता है कि यह पेड़ समृद्धि लाता है। इस आकार और संरचना का पेड़ मिलना दुर्लभ है।”

जैतून के दो पेड़ों के साथ नर्सरी ने एक दर्जन अन्य पेड़ और झाड़ियां भी भेजी हैं, जिन्हें दूसरे ट्रक में लाद दिया गया था. इस सौदे ने आंध्र नर्सरी के लिए नए रास्ते खोल दिए हैं जो पहले से ही देश भर में कई कॉर्पोरेट कंपनियों, रिसॉर्ट्स और होटलों को आपूर्ति कर रही है। इस नर्सरी के पौधे हैदराबाद के राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को भी सुशोभित करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *