बिहार में गौरक्षा के नाम पर मुस्लिम व्यक्ति की पी’ट-पी’टकर ह’त्या

बिहार में एक युवा मुस्लिम व्यक्ति को स्वयंभू गौरक्षकों ने कथित तौर पर पी’ट-पी’टकर मार डाला और उसके शरीर को खाई में दबा दिया गया। कुछ रिपोर्टों में दावा किया गया है कि हम’लावरों ने शरीर को पेट्रोल से डुबोकर और आग लगाकर उसे जलाने की कोशिश भी की। फिर उन्होंने कथित तौर पर उसके शरीर पर नमक छिड़का और उसे दफना दिया ताकि वह तेजी से सड़ जाए।

वायरल वीडियो में, समस्तीपुर जिले के जनता दल (यूनाइटेड) पार्टी के सदस्य मोहम्मद खलील आलम को अपने ह’मलावरों से हाथ जोड़कर उन्हें बख्शने की गुहार लगाते हुए देखा जा सकता है। वीडियो फुटेज में दिखाई नहीं दे रहे हम’लावरों को पीड़ित को उन स्थानों का खुलासा करने के लिए मजबूर करते हुए सुना जा सकता है जहां गायों का वध किया जाता है और गोमांस बेचने में शामिल लोगों का नाम लिया जाता है।

वे उससे पूछते हैं कि उसने अपने जीवन में कितना बीफ खाया है और क्या उसने इसे अपने बच्चों को भी खिलाया है। उन्होंने उससे सवाल किया कि क्या कुरान उसे गोमांस खाने का निर्देश देता है, जिस पर वह जवाब देता है कि ऐसा नहीं है। अभद्र भाषा और अपशब्दों से भरे इस वीडियो को मुसलमानों के खिलाफ घृणा अप’राध की एक और घटना के रूप में व्यापक रूप से प्रसारित किया गया है। हालांकि, स्थानीय पुलिस आरोप से इनकार करती रही और दावा करती है कि यह ह’त्या को छुपाने की एक अलग रणनीति है।

खलील का श’व उनके परिवार द्वारा गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने के चार दिन बाद शुक्रवार शाम को बूढ़ी गंडक नदी के किनारे से बरामद किया गया था। स्थानीय पुलिस के मुताबिक पीड़िता के परिवार वालों ने 16 फरवरी को रिपोर्ट दर्ज कराई थी। अगले कुछ दिनों तक उन्हें पीड़िता के मोबाइल नंबर से फोन आते रहे और पैसे मांगते रहे। फोन करने वाले ने दावा किया कि उसने 5 लाख रुपये उधार लिए थे और परिवार द्वारा भुगतान में देरी करने पर अपनी किडनी बेचने की धम’की दी थी।

19 फरवरी को उसका श’व नदी के किनारे से बरामद किया गया था, जहां उसे रेत में दबा दिया गया था। हालांकि, मंगलवार को स्थानीय पुलिस को एक वीडियो मिला जिसमें उससे पशु तस्करी में उसकी भूमिका के बारे में पूछा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *