”अडानी के लिए लॉबिंग करते हैं मोदी, जरूरत है थोड़ी खुदाई करने की”

गिरीश मालवीय

प्रधानमंत्री मोदी ने कल ही दिल्ली के प्रगति मैदान में ड्रोन महोत्सव 2022 का उद्घाटन किया और शाम को खबर आ गई कि अडानी की कंपनी, अडानी डिफेंस सिस्टम्स एंड टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ने कृषि ड्रोन स्टार्टअप जनरल एरोनॉटिक्स में 50% हिस्सेदारी खरीद ली है।

आपको लग रहा होगा कि यह सब संयोग मात्र है लेकिन ऐसा कुछ नही हैं दरअसल अडानी के लिए मोदी लॉबिंग करते हैं आपको याद दिला देता हूं कि मोदी जब पिछली बार अमेरिका के दौरे पर गए थे तो वहा पर वे कुल पांच बड़ी कम्पनियों के सीईओ से मिले थे जिसमे शामिल थे क्वालकॉम के क्रिस्टियानो ई आमोन, फर्स्ट सोलर के मार्क विडमार और ब्लैकस्टोन के स्टीफन ए श्वार्जमैन, एडोब से शांतनु नारायण इसके अलावा वह मिले थे जनरल एटॉमिक्स के विवेक लाल से !……..

उस वक्त खबर आई थी कि पीएम मोदी और विवेक लाल ने ड्रोन प्रौद्योगिकी में भारत की प्रगति और पीएलआई योजना पर भी चर्चा की। बाद मे खबर आई कि भारत 30 सशस्त्र स्काई गार्डियन विमानों के लिए अमेरिका स्थित जनरल एटॉमिक्स के साथ एक समझौता करने के लिए तैयार हो रहा है जनरल एटॉमिक्स सैन्य ड्रोन में डील करती हैं 2020 में इसके सीईओ बने भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक विवेक लाल पहले भी भारत और अमेरिका के बीच हुए कई प्रमुख रक्षा सौदों में अहम भूमिका निभाते आए हैं जनरल एटॉमिक्स से पहले लाल लॉकहीड मार्टिन में विमानिकी रणनीति एवं कारोबार के उपाध्यक्ष पद पर थे और उससे पहले विवेक लाल रिलायंस में भी नौकरी कर चुके हैं

अभी जिस जनरल एरोनॉटिक्स कंपनी से अडानी ने समझौता किया है वह डेटा एनालिटिक्स का उपयोग करके तकनीक आधारित फसल सुरक्षा सेवाओं, फसल स्वास्थ्य निगरानी और उपज निगरानी सेवाओं के लिए रोबोटिक ड्रोन विकसित करती है। जनरल एरोनॉटिक्स और जनरल एटोमिक्स का जुड़ाव साफ़ नजर आता है….. ऐसे ही आप देखेंगे कि अडानी जल्द ही सोलर एनर्जी के क्षेत्र में किसी कम्पनी से समझोता करते नजर आएंगे क्योंकि मोदी अपने पिछ्ले दौरे में फर्स्ट सोलर के मार्क विडमार से भी मिले हैं

मोदी किस तरह से अडानी के एजेंट की तरह काम करते है यह साफ़ दिखता है …जरूरत है थोड़ी खुदाई करने की !…..पर अफसोस हमारा मीडिया कही और खुदाई करने-करवाने में व्यस्त रहता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *