लखीमपुर हिं’सा: मारे गए किसान का बेटा अजय मिश्रा टेनी के खिलाफ अगला लोकसभा चुनाव लड़ेगा

लखीमपुर खीरी कांड में मारे गए एक किसान का बेटा राजनीतिक क्षेत्र में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी से हिसाब चुकता करना चाहता है। किसान नछत्तर सिंह के बड़े बेटे जगदीप सिंह ने कहा कि वह 2024 के आम चुनाव में टेनी के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि उन्होंने मौजूदा विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के प्रस्तावों को अस्वीकार कर दिया है, और इसके बजाय उन्हें लोकसभा चुनाव में मैदान में उतारने के लिए कहा है। पिछले साल तीन अक्टूबर को हुई इस घटना में विशेष जांच (एसआईटी) द्वारा दायर आरोपपत्र में टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को मुख्य आरोपी घोषित किया गया है।

इस मामले में मिश्रा फिलहाल जेल में हैं। देश को झकझोर देने वाली इस घटना में मंत्री के कारों के काफिले के पहिए के नीचे नछतर सिंह सहित चार किसानों की कुचलकर मौ’त हो गई। एक कार्यक्रम के लिए उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के टेनी के पैतृक स्थान पर जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों के एक समूह के काफिले में एक पत्रकार सहित चार अन्य लोगों की भी मौत हो गई।

गांव नामदार पुरवा निवासी जगदीप सिंह ने पीटीआई-भाषा को बताया कि उन्हें लखीमपुर खीरी जिले के धौरहरा विधानसभा क्षेत्र से टिकट की पेशकश की गई थी, लेकिन उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया। उन्होने कहा, “सपा और कांग्रेस ने जोर देकर कहा कि मुझे धौरहरा सीट से चुनाव लड़ना चाहिए लेकिन मैंने उनसे कहा कि मैं एक छोटी सी लड़ाई नहीं लड़ूंगा। मुझे 2024 में लोकसभा चुनाव के लिए टिकट दो। मैं सीधे टेनी के खिलाफ लड़ूंगा। अगर मुझे लड़ना है, तो मैं इसे ठीक से लड़ूंगा।”

31 वर्षीय ने कहा कि उनके परिवार में किसी की भी राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं है। मैं सपा, बसपा और कांग्रेस समेत किसी का समर्थक नहीं हूं। फिलहाल हम चुनाव में किसान नेता तेजिंदर सिंह विर्क के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा, ‘वह हमारी लड़ाई भी लड़ रहे हैं। वह जहां से भी लड़ रहे हैं, हम उनके साथ खड़े होंगे।

यह पूछे जाने पर कि विधानसभा चुनाव के लिहाज से तिकोनिया कांड कितना बड़ा मुद्दा है, जगदीप ने कहा, ‘समय ही बताएगा, लेकिन यह तय है कि अगर चुनाव में लोग इस घटना के खिलाफ एकजुट नहीं हुए तो किसान कुचले जाएंगे। ऐसी मानसिकता वालों को प्रोत्साहित किया जाएगा।”

मृतक चार किसानों में से धौरहरा निवासी नछतर सिंह और पलिया निवासी लवप्रीत सिंह लखीमपुर खीरी जिले के रहने वाले थे। अन्य दो किसान पड़ोसी बहराइच के रहने वाले थे। घटना को लेकर क्षेत्र के सिख विशेष रूप से मंत्री से नाराज हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *