14 साल के हसन पढ़ाते हैं एम.टेक और बी.टेक छात्रों को

रत्ना चोटरानी
अगर किसी को लगता है कि हैदराबाद सिर्फ मोतियों और मीनारों का शहर या कबाब और बिरयानी का शहर है, तो एक मिनट रुकिए, हैदराबाद भी एक अद्भुत बच्चे का घर है, जो 14 साल की उम्र में एम.टेक और बी.टेक छात्रों को पढ़ाता है.

मिलिए इस युवा ‘आइंस्टीन’ से जो एक पोस्ट ग्रेजुएट छात्र से कहीं ज्यादा जानता है. मोहम्मद हसन अली ने इंजीनियरिंग और पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों की बुद्धि को पार कर लिया है. यह असाधारण बच्चा जो न केवल प्रोफेसरों, वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को कड़ी टक्कर देता है ,बल्कि हैदराबाद में बी.टेक और एम.टेक छात्रों को मुफ्त कौशल विकास कक्षाएं देता है. इतना ही नहीं उन्होंने एक ह्यूमनॉइड रोबोट भी विकसित किया है, जो वॉयस कमांड का जवाब दे सकता है. रोबोट चिह्नित पथ का अनुसरण करने के लिए ‘लाइन फॉलोइंग’ प्रोग्राम जैसे कमांड को याद रखता है.

वॉयस प्लेबैक मॉड्यूल, मोटर डाइवर, रिसीवर ट्रांसमीटर और फिक्स्ड स्पीकर से लैस, आर्डिनो प्रोग्रामिंग का उपयोग करते हुए यह अपनी उम्र के लड़के के लिए अनोखा कारनामा है. फिर भी यह मलकपेट लड़का अब अमेरिका के पेरड्यू विश्वविद्यालय से पीजी में भाग लेने की योजना बना रहा है.
इस बच्चे के कौतुक ने केवल 14 दिनों की अवधि में रोबोट विकसित किया और अब उसके द्वारा ‘सर्विंग रोबोट’ के रूप में उपयोग किया जा रहा है.

उनका काम इस बात की गवाही देता है कि इस कौतुक में आत्मविश्वास की कमी नहीं है. उन्होंने कई सिर घुमाए हैं और बहुतों को प्रेरित किया है. यह सर्वविदित तथ्य है कि इस तरह की नौकरी के लिए न केवल एक अच्छी तरह से हासिल की गई डिग्री, बल्कि अद्वितीय कौशल की भी आवश्यकता होती है, बल्कि इसके प्रति जिज्ञासा ने मोहम्मद हसन अली को वर्तमान समय के इंजीनियरों के भविष्य को बदलने की दिशा में कदम उठाने के लिए प्रेरित किया है.

अपने पिता के साथ एक निर्माण स्थल कीयात्रा ने उन्हें माप की गणना करने के लिए आकर्षित किया और तभी उनके पिता ने उनकी प्रतिभा की पहचान की और उन्हें प्रोत्साहित किया. उन्होंने कंप्यूटर प्रोग्रामिंग और ऑटोकैड पर ऑनलाइन ट्यूटोरियल की मदद से एप्लाइड साइंस में उत्सुकता और दक्षता के साथ, अन्य छात्रों और इंजीनियरिंग छात्रों को आत्मविश्वास और शिष्टता के साथ पढ़ाना शुरू किया, जो किसी भी वरिष्ठ प्रोफेसर या इंजीनियर को चकित कर देगा. पिछले दो वर्षों से इस कौतुक ने अब तक 7000 इंजीनियरिंग छात्रों को प्रशिक्षित किया है. हालांकि कोविड को देखते हुए वह ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं. उन्होंने तेलंगाना के प्रतिष्ठित आईआईआईटी में स्व-चालित कारों और कई अन्य परियोजनाओं पर भी काम किया है.

इस युवा लड़के की विषय की समझ और नई चीजों को अपनाने के जुनून ने लगातार कई लोगों को आकर्षित किया है. आज स्थिति ऐसी है कि शहर के शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजों के छात्र भी उनके पास अपनी शंकाओं को दूर करने या अपने विषयों में बुनियादी या उन्नत विषयों को जानने के लिए आते हैं.

ढेर सारे क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हुए मोहम्मद अली हसन अपनी गतिविधियों और परियोजनाओं के बीच पाठ्येतर गतिविधियों, पढ़ाई और फिर शाम को कक्षाएं लेने के लिए अपना समय व्यतीत करते हैं. यह सचेतक अपने काम के प्रति जुनूनी है और तकनीकी क्षेत्र में याद रखने लायक कुछ करने के लिए दृढ़ संकल्पित है. अगर कोई आश्चर्य करता है कि यह युवा लड़का इतना अच्छा शिक्षक क्यों है, तो इस बारे में एक एम.टेक स्नातक का जवाब है, “मोहम्मद हसन कई पाठ्यक्रम पढ़ाते हैं और वह अपने काम में बहुत अच्छ हैं.”

वह इंजीनियरों को डिजाइनिंग और ड्राफ्टिंग के बारे में सिखाते हैं और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग छात्रों के लिए वह एम्बेडेड सिस्टम, इंटरनेट ऑफ थिंग्स और रोबोटिक्स सिखाते हैं. उन्होंने सैकड़ों प्रोजेक्ट किए हैं.

जैसे वे कहते हैं कि कुछ लोग ऐसे हैं, जो शायद ही अपने सिर में सिर्फ एक धुन पकड़ सकते हैं और अन्य लोग अपने दिमाग में पूरी सिम्फनी को वास्तविक धारणा से थोड़ा-कम विस्तार और जीवंतता के साथ सुन सकते हैं. यह सच है कि हसन ‘एक रहस्यमय दिमाग’ बने हुए हैं.

साभार: आवाज द वॉइस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *