पहले COVID, अब युद्ध: अपने बेटे के यूक्रेन में फंसने से रजिया की बढ़ी चिंता

निजामाबाद:  तेलंगाना की स्कूल शिक्षिका रजिया बेगम, जिन्होंने आंध्र प्रदेश के नेल्लोर में फंसे अपने बेटे को वापस लाने के लिए दोपहिया वाहन पर 1,400 किलोमीटर की यात्रा करके COVID-19 महामारी की पहली लहर के दौरान सुर्खियां बटोरीं थी। एक बार फिर से उनका बेटा बड़े संकट में है। उनका बेटा यूक्रेन में फंसे अनगिनत भारतीय छात्रों में से एक है।

इस बार हालांकि, वह ज्यादा कुछ नहीं कर सकती क्योंकि उनका 19 वर्षीय बेटा निजामुद्दीन अमन उत्तर-पूर्वी यूक्रेन के एक शहर सुमी में फंसा हुआ है। यूक्रेन पर रूस का हमला जारी है और हजारों भारतीय छात्र और नागरिक युद्धग्रस्त देश में फंसे हुए हैं।

रजिया बेगम के मुताबिक निजामुद्दीन अमन सूमी में 500 छात्रों के साथ फंसा हुआ है। उसने कहा कि उसने बुधवार को मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर अपने बेटे को निकालने में मदद का अनुरोध किया था।

रज़िया बेगम, जो निज़ामाबाद के बोधन के सलामपद कैंप गाँव में एक शिक्षक के रूप में काम करती हैं। ने हिन्दू से  कहा, “वे वहां से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं क्योंकि बाहर निकलना सुरक्षित नहीं है। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील करती हूं कि मेरे बेटे और वहां फंसे अन्य भारतीय छात्रों को भी छुड़ाएं।

मार्च 2020 में, रजिया ने अपने बेटे को घर लाने के लिए दोपहिया वाहन पर 1400 किलोमीटर की सवारी की थी, जो कोरोनोवायरस लॉकडाउन के कारण नेल्लोर में फंस गया था। उन्होने कहा था कि “मैं अपने बेटे को वापस लाना चाहता थी। मैंने बोधन के एसीपी जयपाल रेड्डी से संपर्क किया और उन्हें अपनी स्थिति के बारे में बताया। एसीपी ने तुरंत मुझे नेल्लोर की यात्रा के लिए अनुमति पत्र दिया।”

रजिया ने एएनआई को बताया कि वह स्थानीय पुलिस से अनुमति मिलने के बाद अकेले ही सवारी करती थी। उन्होने यह भी कहा कि लॉकडाउन के कारण उसे कई जगहों पर पुलिस ने रोका लेकिन आधिकारिक पत्र के कारण उसे जाने दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *