कांस्टेबल से सीधे IPS ऑफिसर बने फिरोज आलम, प्रेरणादायक है पूरा सफर

इन दिनों दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल  फिरोज आलम नाम लोगों की जुबान पर है। दरअसल, उन्होने देश की सबसे कठिन यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईपीएस में कामयाबी हासिली की है। फिरोज आलम, 2010 में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर नियुक्त हुए थे। अब वह एसीपी के पद को संभालेंगे।

फिरोज आलम ने अपनी कड़ी मेहनत से UPSC CSE 2019 को क्रैक किया और 645वीं रैंक हासिल की। हाल ही में वह अप्रैल में एसीपी के रूप में फिर से सेना में शामिल हुए। अब उन्होने कांस्टेबल के पद से रिलीव होकर फिरोज आलम ने बतौर ट्रेनी आईपीएस दिल्ली पुलिस फिर से ज्वाइन किया है। आईपीएस के रूप में दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पुलिस सेवा (DANP) कैडर मिला है। आलम को दिल्ली में ही बतौर एसीपी पोस्टिंग मिली है।

फिरोज बताते हैं कि 31 मार्च 2021 का दिन दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर उनका आखरी दिन था और इसके अगले ही दिन जब वह कंधे पर सितारों वाली वर्दी के साथ एसीपी के तौर पर दिल्ली पुलिस बल में दोबारा शामिल हुए तो फर्क सिर्फ इतना था कि पहले उन्हें ‘भाई’ कहने वाले उनके साथी कांस्टेबल अब उन्हें ‘सर’ बुला रहे थे और वह दस साल तक जिन्हें ‘सर’ बुलाते रहे अब उनके समकक्ष खड़े थे।

फिरोज आलम उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले के पिलखुवा कस्बे के रहने वाले है। उनके पिता एक कबाड़ व्यापारी है। फिरोज आलम के पांच भाई व तीन बहन हैं। 12वीं कक्षा पास करने के बाद ही 2010 में दिल्ली पुलिस में बतौर कांस्टेबल भर्ती हो गए थे। वह राजस्थान के झुंझनू जिले की नवलगढ़ तहसील के देवीपुरा गांव के कांस्टेबल विजय सिंह गुजर को अपना आदर्श मानते है।  विजय सिंह गुजर भी दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर थे और वह भी यूपीएससी की परीक्षा पास करके आईपीएस कैडर में पहुंचे।

1 thought on “कांस्टेबल से सीधे IPS ऑफिसर बने फिरोज आलम, प्रेरणादायक है पूरा सफर

  1. Congratulations to you Sir to be selected in the IPS.If I am not wrong as you have already been in Police force I think you will not find the physical training that tough while under going training at Central Police Training Academy Hyderabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *