नाटो और रूस के बीच सीधा टकराव यानि तीसरा विश्व युद्ध: बिडेन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने शुक्रवार को कहा कि रूस रासायनिक हथियारों के उपयोग के लिए एक गंभीर कीमत चुकाएगा। साथ ही उन्होने ये भी कहा कि वाशिंगटन यूक्रेन में मास्को से नहीं लड़ेगा क्योंकि नाटो और क्रेमलिन के बीच सीधा टकराव तीसरे विश्व युद्ध को गति देगा।

24 फरवरी को, रूसी सेना ने यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू किया, जिसके तीन दिन बाद मास्को ने यूक्रेन के अलग-अलग क्षेत्रों – डोनेट्स्क और लुहान्स्क – को स्वतंत्र संस्थाओं के रूप में मान्यता दी।

हम यूरोप में अपने सहयोगियों के साथ खड़े रहना और एक अचूक संदेश भेजना जारी रखेंगे। हम संयुक्त राज्य अमेरिका की पूरी ताकत के साथ नाटो क्षेत्र के हर एक इंच की रक्षा करेंगे और नाटो को प्रेरित करेंगे। हम यूक्रेन में रूस के खिलाफ युद्ध नहीं लड़ेंगे। नाटो और रूस के बीच सीधा टकराव तृतीय विश्व युद्ध है। बिडेन ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा कि हमें इसे रोकने का प्रयास करना चाहिए।

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) 30 उत्तरी अमेरिकी और यूरोपीय देशों का एक समूह है। नाटो के अनुसार, इसका उद्देश्य “राजनीतिक और सैन्य माध्यमों से अपने सदस्यों की स्वतंत्रता और सुरक्षा की गारंटी देना है।”

बाइडेन ने कहा कि रूस कभी भी यूक्रेन में जीत हासिल नहीं कर पाएगा। उन्होंने (रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन) बिना किसी लड़ाई के यूक्रेन पर हावी होने की उम्मीद की, वह असफल रहे, बिडेन ने कहा, पुतिन भी ट्रान्साटलांटिक गठबंधन को तोड़ने और कमजोर करने के अपने कथित प्रयास में विफल रहे।

उन्होंने कहा कि यूक्रेन के मुद्दे पर अमेरिकी जनता और दुनिया एक हैं। हम यूक्रेन के लोगों के साथ खड़े हैं। हम निरंकुश और होने वाले सम्राटों को दुनिया की दिशा तय नहीं करने देंगे। लोकतंत्र इस क्षण को पूरा करने के लिए उठ रहा है, दुनिया को शांति के पक्ष में खड़ा कर रहा है … हम अपनी ताकत दिखा रहे हैं और हम लड़खड़ाएंगे नहीं। बाइडेन ने कहा कि वह कांग्रेस से रूस से सबसे पसंदीदा राष्ट्र का दर्जा छीनने के लिए कहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *